Friday, 15 April 2016

इजहार-ए-महोब्बत करने के लिए तुमसे,
 मैं कैसे कोई तारीख तय कर इंतजार करू.,
बेइन्तहा महोब्बत है तुमसे,

 ख्वाहिश इतनी ही तुम्हे आखरी साँस तक प्यार करू

2 comments:

  1. Can U please favour me with your WhatsApp.If U trust me.I will send wonderful poetry of your taste.

    ReplyDelete